spot_img
22.1 C
New Delhi
Friday, February 3, 2023

Breast Cancer से बचने के लिए करे ये योगासन, जल्द दिखेगा असर

नई दिल्ली। कई तरह की बिमारियों इंसान को परेशान करती है, और इस बीच कई तरह की नई नई सेहत संबंधित बिमारियां भी है जो हर दूसरे इंसान की सेहत पर प्रभाव डालती है। ऐसे में पिछले दो दशकों में तमाम तरह के कैंसर के मामलों में इजाफा देखा गया है। इसमें भी स्तन कैंसर के केस सबसे तेजी से बढ़े हैं। अमेरिकी महिलाओं में यह सबसे आम कैंसर बन गया है, आंकड़ों से पता चलता है कि हर 8 में से 1 महिला इस कैंसर का शिकार हो जाती है।

क्या आपको पता है, कि जीभ से पता चल जाता है आपकी सेहत का राज…??

तो ऐसे में स्तन कैंसर, अन्य प्रकार के ही कैंसर की तरह जानलेवा माना जाता है, इससे बचाव बहुत आवश्यक होता है। राष्ट्रीय कैंसर संस्थान के अनुसार, योग के माध्यम से इस कैंसर के खतरे को काफी हद तक कम किया जा सकता है। योग उन हार्मोन के स्तर को भी कम करने में सहायक होते हैं, जिनके चलते स्तन कैंसर का जोखिम बढ़ जाता है।

इसी बीच अध्ययनों का कहना है कि ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer) के निदान के बाद शारीरिक गतिविधि और योग के माध्यम से इसकी जटिलताओं और गंभीरता को कम किया जा सकता है। ऐसे में आज हम आपको बताएंगे ऐसे योगासनों के बारें में जो आप इससे बाहर निकालने में मदद करेंगे।

दिनभर रहना चाहतें है ‘फिट और खुश’ तो ले ऐसी डाइट

1. कैट काउ पोज- ब्रेस्ट कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए कैट काउ पोज का अभ्यास फायदेमंद हो सकता है। यह पीठ के निचले हिस्से को मजबूती देने के साथ कूल्हे के दर्द को कम करने और रीढ़ की गतिशीलता के साथ-साथ रीढ़ की हड्डी में द्रव परिसंचरण को बढ़ाता है। इस योगासन को करने के लिए सबसे पहले अपनी कलाइयों और घुटनों की मदद से चौपाया जानवरों जैसी मुद्र बना लें। अब गहरी श्वास लें और छोड़ें। इसके बाद सांस लेते हुए छत की ओर देखें और सांस छोड़ें। इस योग को रोजाना 5-10 मिनट तक करें।

2. मत्स्यासन पोज- मत्स्यासन योग को हार्ट ओपनर योग भी कहा जाता है, जिसका अर्थ है कि यह आपकी छाती, पसलियों, फेफड़े और पीठ के ऊपरी हिस्से को खोलती है। यह स्तनों और पेक्स में लिंफेटिक ड्रेनेज को उत्तेजित करके ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को कम करता है। योग विशेषज्ञों के मुताबिक इस योग के नियमित अभ्यास से इम्यूनिटी को भी बढ़ाया जा सकता है, जो कैंसर को जोखिम को कम करती है

3. प्राणायाम- गहरी सांस लेने वाले योग आपके डायाफ्राम का अधिक प्रभावी ढंग से उपयोग करने में मदद करते हैं। डायाफ्राम को मजबूत करके ऑक्सीजन के संचार को बढ़ाया जा सकता है। स्तन कैंसर के उपचार के दौरान और बाद में भी इसका अभ्यास करना फायदेमंद हो सकता है। गहरी सांस लेने से मन को शांत करने में मदद मिलती है। महिलाओं को इसका नियमित अभ्यास जरूर करना चाहिए।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।
Priya Tomar
Priya Tomar
I am Priya Tomar working as Sub Editor. I have more than 2 years of experience in Content Writing, Reporting, Editing and Photography .

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

INDIA COVID-19 Statistics

44,683,122
Confirmed Cases
Updated on February 3, 2023 5:59 PM
530,741
Total deaths
Updated on February 3, 2023 5:59 PM
1,764
Total active cases
Updated on February 3, 2023 5:59 PM
44,150,617
Total recovered
Updated on February 3, 2023 5:59 PM
- Advertisement -spot_img

Latest Articles