spot_img
16.1 C
New Delhi
Wednesday, December 7, 2022

गणेश चतुर्थी के दिन जानें भगवान गणेश के बारें में खास बातें

नई दिल्ली। भारतीय परंपराओं के अनुसार गणेश चतुर्थी का त्यौहार हर किसी के लिए काफी महत्वपूर्ण होता है। और इसको हर कोई अपने अपने तरीके से शानदार तरीके से मनाया जाता है। हर साल गणेश चतुर्थी का त्योहार भक्तों के लिए खुशियां और नई उमंग लेकर आता है, और भक्तजन इस दिन को गणेश जन्मोत्सव के रूप में मनाते हैं। बप्पा की प्रतिमा को ढोल-नगाड़ों के साथ बड़ी ही धूमधाम के साथ घर, पडालों और मंदिरों में विराजमन किया जाता है और हर कोई गणपति की भक्ति में डूब जाता है।

Teachers Day Special: जानिए क्या है इस खास दिन की अहमियत, क्यूं मनातें है हम इसे

ये ऐसा त्यौहार है जो कि 10 दिन तक चलता है। ये पर्व हर किसी के लिए बेहद खास होता है और हर तरफ इन दसों दिन बप्पा के नाम का उद्धोष सुनाई पड़ता है। मूर्ति स्थापना के बाद गणपति जी की पूरे विधि-विधान से दस दिन तक पूजा-अर्चना होती है और उन्हें उनके प्रिय मोदक का भोग भी लगाया जाता है और इसके बाद बप्पा का विसर्जन इस उम्मीद के साथ कर दिया जाता है कि गणेश अगले साल जल्दी फिर से आएंगे। तो चलिए इस गणेश चतुर्थी हम आपको उनसे जुड़ी कुछ खास बातों के बारे में बताते हैं।

gadeshhh.btv

गौरतलब है कि अलग-अलग भगवानों को अलग-अलग चीजे अर्पित की जाती है, लेकिन सिर्फ भगवान गणेश ही एकमात्र ऐसे देवता हैं जिन्हें दूर्वा अर्पित किया जाता है। कहते हैं कि अगलासुर नाम का राक्षस ऋषि-मुनियों को जीवित ही निगल जाता था। ऐसे में गणपति जी भी उस राक्षस को निगल गए थे, जिसके कारण उनके पेट में जलन होने लगी और इस जलन को शांत करने के लिए कश्यप ऋषि ने उन्हें दूर्वा चढ़ाई थी। इससे गणेश जी शांत हुए थे।

जन्माष्टमी पर 101 साल बाद बना दुर्लभ संयोग, इन राशियों को होगा लाभ

भगवान गणेश को लिखने में कुशल माना जाता है और उन्हे इसके लिए विशेष दक्षता भी हासिल है। जब ऋषि वेदव्यास को किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश थी, जो बिना रूके महाभारत लिख सके। तब ऐसे समय में गणपति महाराज ने ही महाभारत लिखी थी। ये बात सभी जानते हैं कि भगवान गणेश की सवारी मूषक है, लेकिन शायद आप ये नहीं जानते होंगे कि एक राक्षस को गणपति ने चूहा बना दिया था और फिर उसकी प्रार्थना पर भगवान गणेश ने उसे अपना वाहन बना लिया और तभी से गणेश जी मूषकराज कहलाते है।

गणेश जी को दो चीजें सबसे ज्यादा प्रिय हैं। पहली मोदक और दूसरा लाल सिंदूर। अगर आप बप्पा को मोदक का भोग लगाते हैं और उन्हे लाल सिंदूर भी चढ़ाते हैं, तो कहा जाता है कि गणपति आपकी मनोकामना पूर्ण करते हैं।तो इस तरह से हिंदू धर्म में गणेश चतुर्थी का महत्व है और इस खास दिन को ऐसे मनाते है। मुंबई में गणेश चतुर्थी का त्यौहार बहुत ही धूम-धाम से मनाया जाता है।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।
Priya Tomar
Priya Tomar
I am Priya Tomar working as Sub Editor. I have more than 2 years of experience in Content Writing, Reporting, Editing and Photography .

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

INDIA COVID-19 Statistics

44,674,874
Confirmed Cases
Updated on December 7, 2022 11:44 PM
530,638
Total deaths
Updated on December 7, 2022 11:44 PM
5,180
Total active cases
Updated on December 7, 2022 11:44 PM
44,139,056
Total recovered
Updated on December 7, 2022 11:44 PM
- Advertisement -spot_img

Latest Articles