spot_img
26.1 C
New Delhi
Sunday, September 25, 2022

बाढ़ की तबाही से जूझ रहा पाकिस्तान, ये हैं दुनिया की 5 बड़ी आपदाएं जिन्होंने लील ली हजारों जिंदगियां

नई दिल्ली। पाकिस्तान में इस समय हर तरफ बारिश और बाढ़ से आई भीषण तबाही का मंजर देखने को मिल रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो मौजूदा समय में पाकिस्तान का करीबन एक तिहाई हिस्सा पानी में डूबा हुआ है। इस बाढ़ ने ना सिर्फ सैकड़ों जिंदगियों को लील लिया है बल्कि सैकड़ों एकड़ में लगी फसल भी इसके कारण बर्बाद हो चुकी है। यही वजह है कि पाकिस्तान में इस वक्त महंगाई अपने चरम पर पहुंच चुकी है।

लेकिन क्या आपको पता है कि ये पहली बार नहीं है जब प्राकृतिक आपदा ने हजारों जिंदगियों को लीलते हुए इस तरह की तबाही मचाई है। जी हां, इससे पहले भी कई और देश इस तरह की प्राकृतिक आपदा का शिकार बन चुके हैं। आईये जानते हैं कि कब-कब और कौन से देश ऐसा मंजर देख चुके हैं।

1. केदारनाथ (भारत)
साल 2013 का वो मंजर कोई नहीं भूल सकता जिसे याद करके आज भी लोग कांप जाते हैं। ये आपदा थी 16-17 जून, 2013 में उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में बादल फटने की वजह से आई बाढ़ जिसने ऐसी भीषण तबाही मचाई कि हर तरफ सिर्फ पानी और लाशें ही नजर आ रहीं थीं। हजारों लोग, सैकड़ों घर और होटल इस बाढ़ के साथ बहते ही जा रहे थे। मंजर ये था कि लाशें वहां से बहती हुईं दूसरे राज्य पहुंच रहीं थीं। इस आपदा में करीबन 4700 लोगों के शव बरामद किए गए थे और करीबन 3000 लोगों का कुछ पता ही नहीं चला था। इतना ही नहीं, आपदा के कई साल बाद तक लापता लोगों के कंकाल मिलते रहे। ये तबाही कितनी बड़ी थी इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि आज तक इस आपदा में मरने वालों की सही संख्या का पता नहीं लगाया जा सका है। वहीं आपको बता दें, इस आपदा के बाद प्रभावित इलाकों के पुनर्निमाण में करीबन 2700 करोड़ रुपये का खर्च आया था।

2. नेपाल
साल 2015 में नेपाल ने भी एक दिल दहला देने वाली तबाही का सामना किया। जी हैं, वो तारीख थी 15 अप्रैल, 2015 की जब 7.8 रिक्टर स्केल के भूकंप ने नेपाल की जमीन को हिला कर रख दिया था। इस भूकंप से नेपाल की जमीन ऐसी हिली कि इसमें करीबन 8964 लोगों की जान चली गई और 20 हजार से ज्यादा लोग इसमें घायल हो गए। ये भूकंप कितना तीव्र था इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इसके झटके नेपाल के साथ-साथ भारत के बिहार और यूपी समेत कई और राज्यों में भी महसूस किए गए। 2015 के साथ-साथ नेपाल साल 1934 में भी एक और बहुत ही तीव्र भूकंप का सामना कर चुका है । इस भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 8.4 मापी गई थी। इस भूकंप ने 11 हजार से ज्यादा लोगों ने अपनी जान गंवाई थी और जानमाल का भारी नुकसान हुआ था।

3. अंडमान निकोबार द्वीप, तमिलनाडु और आंध्रप्रदेश (भारत)
सुनामी…इस शब्द से हर कोई तब अच्छी तरह से वाकिफ हो गया जब 26 दिसंबर साल 2004 को ये हजारों जिंदगियों को लील गई। हिंद महासागर में आए भूंकप के कारण पैदा हुई सुनामी ने भारत के अंडमान निकोबार द्वीप समूह के साथ-साथ तमिलनाडु और आंध्रप्रदेश के तटीय इलाके में ऐसी तबाही मचाई कि हजारों परिवार तबाह हो गए। इस सुनामी में करीबन 10 हजार लोगों ने अपनी जान गंवाई थी और हजारों लोग लापता हो गए थे। जानकारों की मानें तो ये सुनामी सुमात्रा के समुद्र के अंदर 30 किमी की गहराई में 9.1 तीव्रता वाले भूकंप के कारण आई थी। इस सुनामी का असर इंडोनेशिया और आसपास के द्वीपों पर भी पड़ा जहां भारी तबाही देखी गई। ये तबाही कितनी भयानक थी इस बात का अंदाजा इसमें मरने वाले लोगों की संख्या से लगाया जा सकता है जो कि कुछ 2.30 लाख थी।

4. चीन
नेपाल और भारत के साथ-साथ चीन भी प्राकृतिक आपदा का शिकार हो चुका है। वैसे तो चीन में कई ऐसे भूकंप आए हैं जिसमें सैकड़ों लोग अपनी जान गंवा चुके हैं, लेकिन 1976 में आए भूकंप का मंजर लोग कभी नहीं भूल सकते। जी हां, साल 1976 में चीन के तांगशान शहर में एक ऐसा भूकंप आया जिसके झटकों ने करीबन 2.5 लाख से ज्यादा लोगों की जान ले ली। कई रिपोर्ट्स में तो ये संख्या 5 लाख से भी ज्यादा बताई गई। इस भूकंप की तीव्रता 7.6 से लेकर 8.1 तक मापी गई थी। नेपाल की ही तरह, चीन ने एक और बड़ा भूकंप महसूस किया था। ये भूकंप साल 1556 में आया था जिसमें 8 लाख से भी ज्यादा लोगों ने अपनी जान गंवा दी थी और ना जाने कितने ही परिवार तबाह हो गए थे। इतना ही नहीं, इस भूकंप में लाखों लोग घायल भी हुए थे।

5. पाकिस्तान
पाकिस्तान में आई बाढ़ ने 1200 से ज्यादा लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है। इसमें 400 से ज्यादा बच्चे बताए जा रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो इस बाढ़ से 3.3 करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं। इतना ही नहीं, इसके कारण 11 लाख से ज्यादा घरों को नुकसान पहुंचा है और 18 हजार स्कूल बाढ़ की चपेट में आए हैं। इसके साथ-साथ वहां की सड़कों और पुलों को भी बहुत नुकसान पहुंचा है। किसान भी इस बाढ़ से काफी प्रभावित हुआ है क्योंकि इससे ना सिर्फ 35 लाख एकड़ की फसल बर्बाद हुई है बल्कि लाखों जानवरों की भी मौत हुई है। यही वजह है कि आज पाकिस्तान में खाने का भी संकट खड़ा हो गया है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

INDIA COVID-19 Statistics

44,568,114
Confirmed Cases
Updated on September 25, 2022 12:27 PM
528,510
Total deaths
Updated on September 25, 2022 12:27 PM
43,994
Total active cases
Updated on September 25, 2022 12:27 PM
43,995,610
Total recovered
Updated on September 25, 2022 12:27 PM
- Advertisement -spot_img

Latest Articles