spot_img
22.1 C
New Delhi
Friday, February 3, 2023

Congress से नहीं कर रहा कोई गठबंधन, मुश्किल में फंसा प्रियंका का UP मिशन

नई दिल्ली। यूपी विधानसभा चुनाव (UP assembly elections) के लिए राजनीतिक पार्टियां अपने-अपने सियासी समीकरण और राजनीतिक गठजोड़ बनाने में जुटी हैं। बीजेपी (BJP) ने सूबे में अपनी सत्ता को बचाए रखने के लिए निषाद पार्टी और अपना दल (एस) से गठबंधन कर रखा है। वहीं सपा प्रमुख अखिलेश यादव (SP chief Akhilesh Yadav) ने ओम प्रकाश राजभर की सुभासपा (Suheldev Bhartiya Samaj Party) सहित कई छोटी पार्टियों के साथ हाथ मिलाया है। कांग्रेस (UP Congress) ने गठबंधन के लिए छोटे दलों को खुला ऑफर दे रखा है। लेकिन अभी तक कोई भी पार्टी तैयार नहीं है। ऐसे में क्या वजह है कि कांग्रेस के साथ यूपी में कोई दल हाथ मिलाने को तैयार नहीं है।

 

Uttar Pradesh: आजमगढ़ में BJP का परचम फहराने की रणनीति, अमित शाह करेंगे रैली

 

प्रियंका गांधी की पार्टी के लिए घोषणाएं

यूपी में अपनी हालत सुधारने के लिए कांग्रेस जीतोड़ मेहनत करती हुई नजर आ रही है। सूबे में कांग्रेस की कमान प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) संभाले हुए हैं और एक के बाद एक लोकलुभावने घोषणा कर रही हैं। इसके साथ ही कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं में जोश भरने के काम में जोर-शोर से लगी हुई हैं। ऐसे में कांग्रेस कशमकश में फंसी हुई है कि कैसे पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी की छवि और लोकप्रियता को बचाए रखा जाए।


कांग्रेस ने गठबंधन के लिए खोले दरवाजे

2022 के चुनाव में कांग्रेस बेहतर नहीं कर पाई तो उसका सीधा असर प्रियंका गांधी पर पड़ेगा। इसी के मद्देनजर कांग्रेस ने सूबे में गठबंधन के लिए अपने दरवाजे खोल दिए थे। कांग्रेस के यूपी चुनाव ऑब्जर्वर और छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने पिछले दिनों कहा था कि यूपी में अभी हमारा किसी से गठबंधन नहीं, लेकिन छोटे दलों को साथ लेकर चलेंगे। गठबंधन के लिए कांग्रेस दरवाजे सभी के लिए खुले हुए हैं।

 

Maharashtra: नवाब मलिक के दामाद ने देवेंद्र फडणवीस को भेजा कानूनी नोटिस


सपा और बसपा का कांग्रेस से किनारा

प्रियंका गांधी ने भी लखनऊ दौरे पर गठबंधन के विकल्प खुले रहने की बात कही थी। बसपा(BSP) से लेकर आरएलडी (RLD) तक से कांग्रेस के गठबंधन की चर्चाएं तेज हो गई थी।  बसपा सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस से गठबंधन के सवाल पर मंगलवार को साफ तौर पर कहा कि, ‘हम यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के लिए किसी भी दल के साथ चुनावी समझौता नहीं करेंगे और अकेले ही चुनाव लड़ेंगे। सपा और बसपा के पूरी तरह किनारा कर लेने के बाद कांग्रेस की कोशिश पश्चिम यूपी में आरएलडी के साथ तालमेल करने की थी। ऐसे में आरएलडी प्रमुख जयंत चौधरी ने भी साफ कर दिया है कि यूपी में कांग्रेस के साथ उनका कोई तालमेल नहीं होगा, बल्कि सपा के साथ गठबंधन की बातचीत चल रही है.

 

सूबे में कांग्रेस के लिए सियासी राह आसान नहीं

दरअसल, कांग्रेस यूपी में पिछले 3 दशक से सत्ता से बाहर है। जिसके चलते पार्टी के बड़े नेता पार्टी छोड़कर चले गए हैं और जनाधार भी खिसक गया है। कांग्रेस में एक धड़ा है, जिनका मानना है कि 2022 के यूपी विधानसभा चुनाव (UP assembly elections) में कांग्रेस को बीजेपी की हार सुनिश्चित करनी है तो क्षेत्रीय दलों के साथ मिलकर चुनाव लड़ना होगा। गठबंधन नहीं होता है तो सूबे में कांग्रेस के लिए सियासी राह आसान नहीं होगी. इसी के चलते कांग्रेस के तमाम बड़े नेता पार्टी छोड़कर सपा में शामिल हो गए हैं।

ओवैसी के साथ गठबंधन मुश्किल

कांग्रेस के सामने अब यही विकल्प बचा है कि उत्तर प्रदेश की सभी 403 सीटों पर अकेले चुनावी मैदान में उतरकर किस्मत आजमाए, क्योंकि तमाम छोटे दल या तो बीजेपी के साथ हैं या फिर सपा के साथ मिलकर चुनावी मैदान में उतरने की तैयारी कर रखी है। वहीं सिर्फ रघुराज प्रताप सिंह की जनसत्ता पार्टी और भीम आर्मी के चंद्रशेखर बचे हैं। इसके अलावा असदुद्दीन ओवैसी की AIMIM है। इनमें ओवैसी के साथ गठबंधन मुश्किल है, जबकि चंद्रशेखर अपनी अलग सियासी राह तलाश रहे हैं।

Archana Kanaujiya
Archana Kanaujiya
I am Archana Kanaujiya working as Content Writer/Content Creator. I have more than 2 years of experience in Content Writing, Editing and Photography.

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

INDIA COVID-19 Statistics

44,683,122
Confirmed Cases
Updated on February 3, 2023 5:59 PM
530,741
Total deaths
Updated on February 3, 2023 5:59 PM
1,764
Total active cases
Updated on February 3, 2023 5:59 PM
44,150,617
Total recovered
Updated on February 3, 2023 5:59 PM
- Advertisement -spot_img

Latest Articles